तसव्वुर का आइना

July9

धड़कन बड़ी बेताब रहती है तेरी चाहत में
तू मिले तो चैन मिल जाये मुझे

मैं तेरे जहाँ में हूँ या नहीं, यह तो नहीं जानता
मगर तू मिले तो जहाँ मिल जाये मुझे

कब से साहिल पे खड़ा राह तकता हूँ तेरी
तेरी बस एक झलक मिल जाये मुझे

कभी फुर्सत हो तो मिलना मुझसे
शायद तेरे दीदार से सुकून मिल जाये मुझे

बस तेरी सादगी के सिवा कुछ नहीं चाहता
तू मिले तो जन्नत मिल जाये मुझे

कभी तो रहम कर मुझ दीवाने पर
शायद तुझ में जीने की राह मिल जाये मुझे

posted under Ghazals

Email will not be published

Website example

Your Comment: